Wed. Jun 19th, 2024

हिमाचल प्रदेश से श्रीनगर तक बर्फबारी हो रही है, देखा जा रहा है की बर्फबारी के चलते सैलानियों के चेहरे खिल-खिलाए हुए हैं। लोगों को मिली सूखी सर्दी से राहत, बारिश ने बढ़ाई ठंड। मौसम का बदला मिजाज, पहाड़ों कि खूबसूरती में कोहरे और बर्फ ने लगाए चार चांद। मैदानी क्षेत्रों में लुका छुपी खेलते दिखाई दिए कोहरे और धूप।

मौसम विभाग द्वारा घने कोहरे व बारिश के चलते पंजाब, चंडीगढ़, उत्तराखंड, दिल्ली-एनसीआर व हरियाणा में ऑरेंज अलर्ट और जम्मू-कश्मीर, यूपी, पश्चिम बंगाल के गंगा किनारे वाले इलाकों, ओडिशा और नॉर्थ-ईस्ट के राज्यों में यलो अलर्ट जारी किया है।

बर्फबारी के चलते बड़ी मुश्किलें
वादियों के खूबसूरती के साथ-साथ बढ़ती दिखाई दी स्थानीय लोगों की मुश्किलें। हिमाचल प्रदेश व उत्तराखंड में बारिश के साथ -साथ ऊंचाई वाले क्षेत्रों में हुआ भारी हिमपात । जिसके चलते आम जनजीवन पूर्ण तरीके से अस्त-व्यस्त हो चुकी है। हिमाचल प्रदेश में 4 राष्ट्रीय राजमार्ग सहित 130 सड़कें और बिजली के 395 ट्रांसफार्मर बंद हो गए। 300 बर्फबारी में फंसे सैलानियों को सुरक्षित जगह पहुंचा दिया गया है। कोहरे के कारण वाहन चालकों को आवागमन में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

खराब मौसम के चलते दिल्ली के इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे पर 331 उड़ानों के आगमन प्रस्थान में 3-4 घंटे तक की देरी हुई। 11 उड़ानों को किया गया रद्द । घने कोहरे के कारण रेल संचालन पर बहुत बुरा असर पड़ा है और साथ ही साथ दिल्ली आने वाली भुवनेश्वर राजधानी, डिब्रूगढ़ राजधानी, राजेंद्र नगर राजधानी, सियालदाह राजधानी के साथ-साथ 70 ट्रेनें 13 घंटे तक की देरी से चलीं।

“आने वाले दिनों में हिमाचल, जम्मू-कश्मीर और उत्तराखंड में भारी बारिश के साथ ही जमकर हिमपात भी होगा, साथ ही इसका प्रभाव हरियाणा, दिल्ली-एनसीआर और उत्तर प्रदेश के मैदानी इलाकों में भी देखा जाएगा।” -दिल्ली में क्षेत्रीय मौसम केंद्र के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव।

“फरवरी में उत्तर भारत में सामान्य से अधिक बारिश होने की संभावना है, मध्य भारत में भी सामान्य व सामान्य से अधिक बारिश होने की संभावना है, और दक्षिण प्रायद्वीपीय भारत में सामान्य से कम बारिश होगी।” -आईएमडी के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्र।

उत्तराखंड के पर्यटक व्यवसाय से जुड़े लोगों के थे खिल-खिलाए चेहरे
गंगोत्री, यमुनोत्री, केदारकांठा, हर्षिल व चकराता समेत ऊंचाई वाले इलाकों में लंबे समय के इंतजार के बाद हुई बर्फबारी।विशेषज्ञों का कहना है बारिश और बर्फबारी से तापमान पर कुछ ज्यादा असर नहीं पड़ेगा, जबकि मैदान से लेकर पहाड़ तक लोगों को सूखी ठंड से मिलेगी राहत। बर्फ की वादियों में घुमने और सफेद बर्फ से ढकी पहाड़ की खूबसूरतीयों का लुफ्त उठाने के लिए पहाड़ी इलाकों में पर्यटकों के आवा गमन का सिलसिला शुरू हो चुका है। जिसके चलते पर्यटक व्यवसाय के लोगों के चेहरे पर दिखाई दे रही है खुशियां।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed